पासी मंदिर

मध्य भारत के राजा मध्य के दस्यु से पासी जाति का उदय हुआ। पासी भारत के मूल निवासियों में से थी । यह बहादुर और जुझारु प्रवृत्ति के लोगों का कुनबा था। अयोध्या में सूर्यवंश की सत्ता जब खत्म हुई तो राजा आरख्त पासी का राजा हुआ। इन्हें राजपासी के नाम से जाना जाता है। इन्हीं पासियों का एक जातीय पंचायती अयोध्या के कनीगंज मोहल्ले में सन उन्नीस सौ के पूर्वार्ध्द में स्थापित किया गया।