श्री विश्वकर्मा मंदिर

काष्ठ शिल्पियों ने विश्वकर्मा जी को अपना पूर्वज ही नहीं वरन आराध्य के रुप में भी स्वीकार किया । उन्हीं काष्ठ शिल्पियों ने अयोध्या नगरी के रायगंज मुहल्ले में अपनी जातीय पहचान के लिए श्री विश्वकर्मा मंदिर की स्थापना संवत 1973 में की । मंदिर में विश्वकर्मा भगवान की भव्य मूर्ति के साथ-साथ भगवान श्रीराम. माता जानकी, रामलला और राधाकृष्ण की मूर्तियां प्राण प्रतिष्ठित है । विश्वकर्मा भगवान की मूर्ति संगमरमर की और अन्य मूर्तियां अष्टधातु की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *