सांस्कृतिक भूदृश्य का विकास

सांस्कृतिक भूदृश्य का विकास प्राचीन काल वेदत्रयी में स्पष्ट रुप से न तो कोसल ओंर न ही उसकी राजधानी अयोध्या का उल्लेख है । केवल अथर्ववेद में राजधानी का उल्लेख प्राप्त होता है । जिसमें अयोध्या को देवताओं  द्वारा निर्मित स्वर्ग की भांति समृद्धशाली बताया गया है । अथर्ववेद में लिखा है |- अष्ट चक्रा […]

पुरातत्व एवं इतिहास

प्राचीन समय में अयोध्या का नाम कोशलदेश था । अथर्ववेद के अनुसार यह देवताओं द्वारा निर्मित शहर था और अपने आप में इतना समृद्ध था जैसे कि स्वर्ग । यहाँ के उदार राजवंश के राजा इक्ष्वाकु सूर्यवंश के थे । परम्परानुसार राजा इक्ष्वाकु वैवस्तत मनु के सबसे बड़े पुत्र थे जिन्होंने अयोध्या की स्थापना की […]